सर जी ने जोर से घुसा दिया लौड़ा मेरे बूर में

मास्टर जी की नजर मेरे ऊपर पहले से ही थी। मैं ब्रा नहीं पहनती थी, सिर्फ फ्राक पहन लेती थी। तो चूचियां मेरी हिलते रहती थी। निप्पल दूर से ही पता चलता था, मेरे मास्टर जी हमेशा ही घूरते रहते हैं मैं हमेशा शरमा जाती थी। वह से भाग जाती थी, मास्टर जी कहते रहते थे ओ कविता आ ना इधर पर मैं नहीं जाती थी। क्यों की उनकी टकटकी निगाह मेरी चूचियों पर होती थी। मैं जब गलत भी लिखती थी गलत मैथ्स बनाती थी तब भी वो शावासी देने मेरे पास आते और मेरी पीठ को सहला। देते

अब वो कुछ ज्यादा ही मेरे ऊपर मेहरवान थे. वो मुझे बहुत चाहने लगे था। अब तो वो मुझे निहारते रहते थे और जब भी मौक़ा मिलता था वो अपना लंड अपने हाथ से दबा लेते थे। मैं समझने लगी थी अब मुझे भी ये सब अच्छा लगने लगा था। मैं भी मास्टर जी की केयर करने लगी थी।

एक दिन की बात है। शनिवार का दिन था मॉर्निंग क्लास थी। छुट्टी के समय वारिश आ गई थी। सब लोग भाग कर अपने घर पहुंच गए मैं भी पहुंच गई थी। पर घर जैसे पहुंची याद आया मेरे घर की चाभी स्कूल में ही रह गई है। क्यों की माँ और पापा दोनों नानी घर गए थे इसलिए वो देर रात को आते तो चाभी मुझे ही दे गए थे। गाँव का स्कूल था, तुरंत वापस भाग कर स्कूल आई तो सभी लोग जा चुके थे।

वही मास्टरजी थे बाकी के सभी शिक्षक चले गए थे। मैं जैसे ही स्कूल में दाखिल हुए मास्टरजी ऑफिस से आवाज लगाए। कविता क्या ढूंढ रही है? तो मैं बोली चाभी यही रह गई है। तो मास्टर जी बोले ओह्ह्ह्ह तुम्हारी चाभी है आ यहाँ रखा है। मैं ऑफिस में गई मैं भीग चुकी थी। कपडे गीले हो गए थे। मास्टर जी अचानक मेरी चूचियों को निहारने लगे मैं सोची ऐसा क्या देख रहे हैं तो मैं खुद से देखा अपनी चूचियों को हाय राम वारिश से भीगने पर मेरे कपडे मेरी चूचियों में सट गए थे और पूरी चूची निप्पल समेत दिखाई दे रहे थे।

More sexy stories  नैना की कुँवारी चूत

मैं शर्मा गई और अपने हाथ से ढक लिया तभी वारिश तेज से होने लगी। जोर से आंधी भी आ गई। मास्टर जी मेरे पास आ गए और मेरे हाथ को हटा दिए मैं भी हाथ हटा कर खड़ी हो गई। ओह्ह्ह फिर क्या बताऊँ दोस्तों मास्टर जी मेरे होठ को पहले अपने ऊँगली से छुए और फिर मेरे चूचियों को। मैं सिहर गई। मुझे भी अच्छा लगा। उन्होंने पूछा कैसा लग रहा है। मैंने कुछ नहीं कहा। फिर उन्होंने मेरे चूचियों को दबाया और पूछा दर्द तो नहीं कर रहा ? मैं बोली नहीं। और फिर मेरे होठ को चूमने लगे और चूचियों दबाने लगे.

मैं किसी तरह से छुड़ाई उनसे और भागी, बारिश काफी हो रही थी। जैसे ही करीब 20 मीटर गए होंगे तभी मैं फिर से वापस आ गई और आकर बोली आप जो कर रहे हैं किसी को बताएँगे तो नहीं। मास्टर जी बोले अरे नहीं पगली मैं क्यों बताऊंगा। और मैं अपने आप को उनके हवाले कर दी। जोरो की वारिश हो रही थी मेरे कपडे उन्होंने उतार दिए वही बेंच पर लिटा दिए। उन्होंने मेरी पेंटी भी उतार दी और फिर अपने कपडे भी उतार दिए.

वो मेरे बूर को चाटने लगे। वो एहसास ना भूलने वाला है दोस्तों गजब की सिहरन हो रही थी मेरे बदन में मेरे रोम रोम खड़े हो गए थे मेरे दांत अपने आप ही पीसने लगे थे। और मैं खुद ही अपने टांगो को अलग अलग कर दी यानी खुद को चुदने के लिए सौंप दिया मास्टरजी को। दोस्तों फिर क्या था उन्होंने अपना लौड़ा निकाला और मेरे बूर पर लगा कर जोर से धक्का दिया, लौड़ा बार बार फिसल जा रहा था। बाहर वारिश हो रही थी। मेरी कराह निकल रही थी उन्होंने फिर से धक्का दिया फिर भी मेरी बूर में नहीं गया।

More sexy stories  रानी मेरे दोस्त की सेक्सी पत्नी-3

उन्होंने मेरे बूर में थूक लगाया और अपने लौड़े पर भी उसके बाद उन्होंने बिच में रखकर पहले धीरे से थोड़ा अंदर किया मुझे बहुत दर्द हो रहा था। फिर उन्होंने जोर से अंदर धकेल दिया मैं कराह उठी। उन्होंने मेरे चूची को सहलाया और धीरे धीरे आगे पीछे करने लगे। दोस्तों धीरे धीरे मुझे दर्द कम हो गया। और वो फिर आराम से मुझे चोदने लगे।

करीब पांच मिनट में वो झड़ गए अपना सारा माल मेरे पेट पर ही डाल दिया। और उन्होंने अपने कपडे पहने मैं भी कपडे पहनने लगी तो देखि मेरे बूर से खून निकल रहा था। मैं डर गई। तो मास्टरजी बोले कोई बात नहीं पहली बार जब लौड़ा बूर में जाता है तो बूर के परदे टूटते हैं। डरने की कोई बात नहीं मैं फिर कपडे पहनी और भीगते भीगते घर आ गई।

फिर कभी मास्टर जी को चोदने नहीं दिया मुझे लगता था की कही फिर से ना खून निकलने लगे उन्होंने कई बार समझाने की कोशिश की की अब नहीं निकलेगा फिर भी मैं दुबारा चोदने नहीं दिया।

अब मैं दिल्ली में रहती हूँ। नर्स का काम सिख रही हूँ। मेरी चूत फिर से लंड को बेताब हो रहा है। पता नहीं अब क्या करूँ ? आप ही बताएं मैं क्या करूँ ?