भाभी ने चुदाई करना सिखाया

हेलो दोस्तो, मेरा नाम अरुण है और मेरी उमर अब 20 साल है. मैं दिखने मे काफ़ी हॅंडसम हूँ और जिम भी जाता हूँ तो मेरी बॉडी काफ़ी अछि बन रखी है. मैं हरिद्वार मे रहता हूँ. मेरे लंड का साइज़ काफ़ी अछा है और मैं इतना जनता हूँ की एक चूत की तड़प को मेरा लंड अछे से शांत कर सकता है.

आज मैं आपके लिए एक कहानी ले कर आया हूँ जो की आपको बहोट ज़्यादा पसंद आएगी. पर अब मैं अपनी कहानी शुरू करने से पहले थोड़ा बहोत अपने बारे मे भी बता देता हूँ.

मैं आज जो ये कहानी ले कर आया हूँ वो आज से 4 साल पुरानी है. क्योकि ये स्टोरी मेरे स्कूल टाइम की है जब मैं सेक्स के बारे मे इतना कुछ नही जनता था. पर हाँ मुझे जितनी भी सेक्स की नालेज थी वो मेरे दोस्तो ने मुझे दी थी. मुझे पहले ये सब अछा नही लगता था पर दोस्तो के मूह से सुन कर मुझ मे भी तोड़ा बहोत इंटेरेस्ट आने लग गया था.

मेरे दोस्तो की तो गर्लफ्रेंड भी थी पर मेरी तब कोई गर्लफ्रेंड नही थी और तब मुझे इसका इतना पता भी नही था और ना ही मुझे लड़कियों मे कोई इंटेरेस्ट था.

पर हाँ मैने दो या टीन बार मूठ ज़रूर मारी थी पर उसके बाद भी मुझे इन सबका कोई नशा नही हुआ था. अब दोस्तो आज मैं जो कहानी आपके लिए ले कर आया हूँ उसमे क्या कुछ हुआ, केसे हुआ वो सब आपको धीरे-धीरे पता चलेगा.

तो चलिए बिना कोई समये गवाए आपको अपनी कहानी पर ले कर चलता हूँ.

ये बात तब की है जब मेरी **त क्लास ख़तम हो गयइ थी और मैं अब आयेज -1 मे मेडिकल लेना चाहता था. पर मैं जिस स्कूल मे करना चाहता था वो वाहा न्ही था. वो वाहा था झा मेरे पापा का एक दोस्त रहता था. और वो अंकल मुझसे बहोत पायर करते थे और वो मुझे अपने पास रहने के लिए पापा को कहते रहते थे.

पर अब जब स्कूल की बात आई तो मुझे पापा ने उन अंकल पास पड़ने के लिए भेज दिया था. अंकल का नाम राजेश था और उनके घर पर उनकी वाइफ, उनका बेटा और बेटे की वाइफ रहती थी.

More sexy stories  सर जी ने जोर से घुसा दिया लौड़ा मेरे बूर में

अंकल मेरे घर आने से बहोट ही ज़्यादा खुश थे और मुझे अंकल साथ तोड़ा कंफर्टबल फील भी होता था.

अंकल एक गवर्नमेंट जॉब मे थे और आंटी हाउस वाइफ थी. उनका बेटा आर्मी मे था और असम मे रहता था. उसके असम मे रहने की वजह से वो अपनी बीवी से अलग रहता था और भाभी यही अंकल आंटी साथ रहती थी.

मैं अब जब घर पर आया तो मुझे देख कर सारे खुश हो गये और अंकल और आंटी ने मुझे तो गॅल से ही लगा लिया. मैं तब अपने पापा साथ आया था और फिर हम सोफे पर बैठ गये और तब मैने भाभी को देखा जो हुमारे लिए चाइ ले कर आ रही थी.

मैं भाभी को देखते ही बस देखता ही रह गया और मुझे कुछ समझ नही आ रा था की मुझे ये क्या हो रा है. अब पापा मुझे वाहा छोड़ कर और थोड़े पैसे देकर वाहा से चले गये. मैं वाहा पहले तो थोड़े अनकंफर्टबल फील कर रा था पर ये तो आप भी जानते हो की किसी नयी जगह पर सेट्ल होना या मन लगना कितना मुश्किल होता है.

ठीक वेसए ही मेरे साथ भी हुआ. अंकल मेरे साथ बाते करते रहते थे जिससे मुझे कुछ अनकंफर्टबल फील ना हो और फिर अंकल ने मुझे एक अलग से रूम भी दे दिया जिसमे मैं आराम से बैठ कर पड़ सकता था और वही पर मैं सोता था.

मुझे ये जान कर काफ़ी खुशी मिली और फिर मैं अपने नये रूम मे रहने लग गया. भाभी जिनको देखते ही मैं थोड़ा पागल सा हो गया था उनके बारे मे भी आपको बता देता हूँ.

भाभी का नाम रिचा था और उसका फिगर बहोट ही कमाल का था पर हाँ उसका रंग सांवला था पर उसका फेस काफ़ी अट्रॅक्टिव था. मैं अब भाभी साथ भी काफ़ी आछे से मिक्स उप हो गया था और भाभी मेरी स्टडी मे हेल्प भी करवा दिया करती थी.

मैं पड़ाई अक्सर अब उनके कमरे मे कर लिया करता था क्योकि वो मेरी हेल्प भी करवाती थी और काई बार तो मैं उनके कमरे मे ही सो जाता था. भाभी अब मेरे साथ काफ़ी मज़ाक भी कर लिया करती थी और मैं भी भाभी साथ मज़ाक करलिया करता था.

More sexy stories  दोस्त के रूम में गर्लफ्रेंड की चुदाई

भाभी मुझसे मेरे बारे मे पूछती थी की मेरी कोई गर्लफ्रेंड नही है क्या. तो मेरा हर बार यही जवाब होता था की भाभी मुझे गर्लफ्रेंड की क्या ज़रूरत है. अगर आप हो तो कोई ज़रूरत भी नही है क्योकि मैं आपसे ही बाते मार लेता हूँ.

मेरी बाते सुन कर भाभी मुझे लल्लू राम बोलने लग गयइ और फिर उन्होने मुझसे पूछा की तू फिर जिम जाता है वाहा भी कोई लड़की पसंद नही आई. तब भी मेरे मूह से बस ना ही निकली और फॉर भाभी हास पड़ी.

अब उस रात मैं वही भाभी के रूम मे सो गया और तब मुझे रात को अपने साथ कुछ अलग सा महसूस हुआ. मैने तब महसूस किया भाभी मेर साथ चिपक कर लेती हुई थी और मेरे सीने पर हाथ फेर रही थी. मैं जाग चुका था पर मुझे ये सब अछा लग रा था और जब भाभी ने मुझे किस किया तो मैने उन्हे अपनी बाहो मे भर लिया और उनके होंठो को अपने होंठो मे भर कर किस करने लग गया.

तब वो उठी और फिर मेरे साइड मे हो कर लेट गयइ और सो गये. फिर जब हम सुबह उठे तो भाभी मेरे लिए चाइ लाई और फिर मुझे देख कर वो मुस्कुराने लग गई.

मैं अब उठ कर स्कूल तैयार हो कर चला गया और फिर जब वापिस आया तो भाभी ने मुझे खाना दिया और वो तब भी वो मुझे देख कर मुस्कुराने लग गई. अब शाम हो गई और मैं पढ़ाई करने भाभी के रूम मे ही बैठ गया.

रात को मैं वही पर सो गया और आज भाभी फिर मेरे साथ चिपक कर लाते गई. और ये होते ही मैने भी भाभी को कस कर जाकड़ लिया और फिर हम दोनो एक दूसरे को किस करने लग गये.

उधर बाहर बहोत ही रोमॅंटिक मौसम बन रखा था और बारिश भी हो रही थी. उधर भाभी भी नाइटी मे थी जिसमे से उसकी ब्रा और पनटी भी दिख रही थी. अब मैने देर ना करते हुए उनके होंठो को अपने होंठो मे भर लिया और चूस लिया.

अब जब मुझसे रा न्ही गया तो मैने उन्हे कहा की लंड खड़ा हो गया है. तब भाभी ने मेरे कपड़े उतार दिए और खुद के भी कपड़े उतार कर मेरे उपर आ गयइ. जब वो मेरे सामने नंगी हुई तो मैं तो बस उन्हे देखता ही रह गया और मेरा लंड डंडे की तरह खड़ा हो गया.

More sexy stories  जवान पूजा की सील तोड़ी

अब भाभी मेरे उपर से उठी और साइड मे हो कर लेट गयइ और फिर मैं उनके उपर आ गया. मैने तब देर ना करते हुए उनके बूब्स को हाथो मे भर कर दबाने लग गया और फिर उन्हे मूह मे ले कर चूसने लग गया. ये सब मेरे लिए पहली बार था तो मुझे कुछ समझ नही आ रा था और मैं बस पागलो की तरह चूसी जा रा था.

उधर भाभी के मूह से आअहह आहह की आवाज़े निकल रही थी और उन्हे दर्द हो रहा था जिसकी वजह से वो मुझे रोक रही थी पर मैं अब खा रुकने वाला था. मेरे उपर तो भूत सॉवॅर था और मैं बस चूसी जा रही था और उधर मेरा लंड उनकी चूत पर लग रा था जिससे अब मुझसे कंट्रोल करना बहोट ही मुश्किल हो रा था.

और फिर मैने खुद ही अपने लंड को उनकी चूत पर रखा और धक्का मरने लग गया पर मेरा लंड अंदर नही गया. तो भाभी ने टाँगे खोली और बोले की अब डाल और फिर मैने तब ज़ोर के धक्के से लंड अंदर डाल दिया.

लंड अंदर जाते ही उनके मूह से आअहह निकल और फिर मैने उनकी चूत को चॉड्ना शुरू कर दिया. और तब मुझे ऐसा लग रा था जेसे की मैं जन्नत मे पहॉंच गया हूँ और मैं उन्हे चुदाई जा रा था.

अब इतना चुदाई के बाद मैने बहोट मज़ा किया और फिर मैने उनकी चूत मे अपना पानी निकल दिया और फिर उनको जप्पी पा कर लेता रा और वो तब मुझसे बोली की आज तूने मेरी तड़प मिटा दी और फिर हम सो गये.

ये कहानी आपको केसी लगी मुझे ज़रूर ब्ताना,